display ads

BARSAT SHAYARI, बरसात वाली शायरी, बारिश शायरी इमेज, SAD BARISH SHAYARI, ROMANTIC BARISH SHAYARI FOR GIRLFRIEND, BARISH SHAYARI IN HINDI, सावन बारिश शायरी,सर्दी की बारिश शायरी,ब्यूटीफुल बारिश शायरी, बारिशशायरी२लाइन, लव बारिश शायरी

BRSAT SHAYARI, SAD BARISH SHAYARI, ROMANTIC BARISH SHAYARI FOR GIRLFRIEND, 


दोस्तों आज कल बरसात का मौसम चल रहा है हर तरफ हरयाली ही हरयाली है बारिश की बूंदो ने हर चीज़ को साफ सुथरा बना दिया है इस मौसम में इंसान के जज़्बात भी बहुत बढ़ जाते हैं होंठो पर तराने और दिल में मस्ती के जज़्बात अंगड़ाइयां लेने लगते हैं और कभी कभी शायरी की दुनिया में खो जाते हैं इस लिए आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए बरसात पर शायरी लेकर आये हैं जिसे पढ़ने के बाद आपके दिल की दुनिया खुशगवार और आपके मिज़ाज में सुरूर पैदा हो जायेगा तो चलिए दोस्तों शायरी पढ़ते हैं.

बरसात शायरी, बारिश शायरी, उदास बारिश शायरी

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में
मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा
Wo mere rubaru aaya bhi to barsat ke mausam mein
Mere aansoo bah rahe the aur wo barsat samjh baitha

Barish Shayari,best barish shayari

बारिश और मोहब्बत दोनो ही यादगार होते हैं
बारिश में जिस्म भीगता है और मोहब्बत में आँखें

Barsih aur mohabbat dono hi yaadgar hote hain
Barsih mein jism bheegta hai aur mohabbat mein aankhein

Barish Shayari, barsat Shayari image,

आज मौसम कितना खुश गवार हो गया,
खत्म सभी का इंतज़ार हो गया,
बारिश की बूंदे गिरी कुछ इस तरह से,
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया।

Barsat Shayari, barish Shayari images in hindi

पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हम से
लो अब गिन लो… बारिश की ये बूँदें

Barish Shayari images in hindi, barsat Shayari Beutyful

कल रात मैंने सारे ग़म आसमान को सुना दिए,
आज मैं चुप हूँ और आसमान बरस रहा है।


Kal Raat Maine Sare Gam Aasman Ko Suna Diye,
Aaj Main Chup Hun Aur Aasman Baras Raha Hai.

Barsat Shayari images in hindi, barish Beutyful Shayari hindi me

बारिशो के मौसम में तुमको याद करने की आदते पुरानी है अब की बार सोचा है आदते बदल डालें फिर ख्याल आया के आदते बदलने से बारिशें नहीं रूकती

Barsat Shayari, barish Shayari images in hindi, Beutyful Shayari in hindi

ये मौसम भी कितना प्यारा है,
करती ये हवाएं कुछ इशारा है,
जरा समझो इनके जज्बातों को,
ये कह रही हैं किसी ने दिल से पुकारा है।


Ye Mausam Bhi Kitna Pyara Hai,
Karti Ye Hawayen Kuch Ishara Hai,
Jara Samjho Inke Jazbaton Ko,
Ye Kah Rahin Hai Kisi Ne Dil Se Pukara Hai
.

Barish Shayari images in hindi, barsat Shayari Beutyful

दूर तक छाए थे बादल और कहीं साया न था
इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था

Door tak chhaye the baadal aur kahi n saya na tha
Is tarah barsaat ka mausam kabhi aaya na tha

Barsat Shayari images in hindi, Beutyful Shayari barish in hindi

इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते हैं
 सपनो में यार आए तो उसे मुलाकात समझ लेते हैं
 रूठता तो आसमान भी है अपनी ज़मीन के लिए
 यह तो लोग ही उसे बरसात समझ लेते है

Barish Shayari images in hindi, Beutyful Shayari barish me

इस भीगे भीगे मौसम में थी आस तुम्हारे आने की,
तुमको अगर फुर्सत ही नहीं तो आग लगे बरसातों को।

Iss Bheege Bheege Mausam Mein Thi Aas Tumhare Aane Ki,
Tumko Agar Fursat Hi Nahi Toh Aag Lage Barsaton Ko.

Barsat Shayari images in hindi, Beutyful Shayari images in hindi, barish Shayari images, hindi Shayari images

मैं तेरे हिज्र की बरसात में कब तक भीगूँ,
ऐसे मौसम में तो दीवारे भी गिर जाती हैं।

Main Tere Hijr Ki Barsaat Me Kab Tak Bheegun,
Aise Mausam Me To Deewarein Bhi Gir Jati Hain.

इस दफा तो बारिशें रूकती ही नहीं ‘फ़राज़’
हमने क्या आँसू पिए के सारे मौसम रो पड़े

Is dafa to barishein rukti hi nahi faraz
Hamne kya aansoo piye ki sare mausam ro pade

Khud Ko Itna Bhi Na Bachaya Kr,
Barisen Hua Kare To Bheeg Jaya Kar.

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर।


हम तो समझे थे कि बरसात में बरसेगी शराब
आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया

Ham to samjhe the ki barsaat mein barsegi sharab
Aai barsaat to barsaat ne dil tod diya


परदेस में क्या महसूस करें
बारिश का मज़ा मिट्टी की महक़
जब गाँव में अपने होती है
बरसात से खुशबू आती है

Love Shayari


Pardesh mein kya mahsoos kare
Barish ka maza mitti ki mahak
Jab gaanv mein apne hoti hai
Barsat se khsboo aati hai


बे मौसम बरसात से अंदाज़ा लगता हूँ मैं
फिर किसी मासूम का दिल टुटा है मौसम-ए-बहार में

Be mausam barsaat se andaza lagata hoon main
Phir kisi maasoom ka dil tuta hai mausam-e-bahar mein


भला काग़ज़ की इतनी कश्तियाँ हम क्यों बनाते हैं
न वो गलियाँ कहीं हैं अब न वो बारिश का पानी है

Bhala kaagaz ki itani kashtiyan ham kyon banate hain
Na wo galiyan kahi hai ab na wo barish ka pani hai


ये मौसम है बारिश का और याद तुम्हारी आती है
बारिश के हर कतरे से आवाज़ तुम्हारी आती है
बादल जब गरजते हैं दिल की धड़कन बढ़ जाती है
दिल की हर एक धड़कन से आवाज़ तुम्हारी आती है
जब तेज हवाएं चलती हैं तो जान हमारी जाती है
ये मौसम है बारिश का और याद तुम्हारी आती है

Ye mausam hai barish ka aur yaad tumhari aati hai
Barish ke har qatre se aawaz tumhari aati hai
Badal jab garzte hain dil ki dhadkan badh jati hai
Dil ki har ek dhadkan se aawaz tumhari aati hai
Jab tez hawayen chalti hai to jaan hamari jati hai
Ye mausam hai barish ak aur yaad tumhari aati hai


इतनी सिद्दत से तो बरसात भी कम बरसे
जिस तरह आँख तेरी याद में नम बरसे
मिन्नतें कौन करे एक घरोंदे के लिए
बादल से कह दो आज झमा-झम बरसे

Itani siddat se to barsat bhi kam barse
Jis taarh aankh teri yaad mein nam barse
Minnatein kaun kare ek gharonde ke liye
Baadal se kah do aaj jhama-jahm barse


बारिश और मोहब्बत दोनो ही यादगार होते हैं
बारिश में जिस्म भीगता है और मोहब्बत में आँखें


मोहब्बत शायरी 


Barish aur mohabbat dono hi yaadgar hote hain
Barsih mein jism bheegta hai aur mohabbat mein aankhein


Post a comment

0 Comments