display ads

Pyar Mohabbat Hai Nafrat Nahi








कुछ लोग खोने को प्यार कहते हैं
तो कुछ पाने को प्यार कहते हैं
पर हकीक़त तो ये है
हम तो बस निभाने को प्यार कहते हैं


प्यार मोहब्बत है नफरत नही
प्यार इक़रार है तकरार नही
प्यार हकीकत है ख्याल नही
हर कोई प्यार को समझ नही सकता क्यूं की
प्यार एहसास है अंदाज़ नही


दिल के सागर मे लहरे उठाया ना करो
ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को
तुम ख्वाबो में आ कर यू तडपाया ना करो


ये चांदनी रात बड़ी देर के बाद आयी
ये हसीं मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी
आज आये हैं वो मिलने को बड़ी देर के बाद
आज की ये रात बड़ी देर के बाद आयी


Kuchh Log khone ko pyar khte Hain
To kuch Pane ko pyar kahte Hain
Par Haqiqat To Ye Hai...
Hum To Bus Nibhane Ko pyar Kahte Hain


निगाहें मुंतजिर हैं किसकी,,दिल को जुस्तजू क्या है
मुझे खुद भी नहीं मालूम,,मेरी आरज़ू क्या है


Tum bhi Mohabbat Ka sauda bada ajeeb karte ho thoda sa muskura deti Ho aur Dil khareed lete ho


तुम भी मोहब्बत का सौदा बड़ा अजीब करती हो
थोड़ा सा मुस्कुरा देती हो और दिल खरीद लेती हो


Khud se milne ki bhi fursat Nahi ab Mujhe
Or wo oron se milne ka ilzam laga rahi hai.



तुम आना मेरे जनाजे में एक आखिरी हसीन मुलाकत होगी 
मेरे जिस्म में बेशक मेरी जान न हो
मेरी जान मेरी जिस्म के पास तो होगी


बहुत जीये उनके लिए जिनको हम पसंद करते थे
अब जीना है उनके लिए जो हमें पसंद करते हैं


उनको डर है कि हम उन के लिए जान नही दे सकते, और मुझे खोफ़ है कि वो रोएंगे बहुत मुझे आज़माने के बाद


हर किसी पर मुकम्मल इश्क की मेहरबानी नही होती
हर मोहब्बत की कहानी बाजीराव मस्तानी नही होती


इजहारे मुहब्बत के सवालो में ही खतम हो गए रिश्ते
आप कोई जवाब देते तो शायद संवर जाते हम


मोहब्बत की महफ़िलों में खुदगर्ज़ी  नहीं  चलती
कम्बख़त मेरे ही दिल पे मेरी मरज़ी नहीं चलती


तुम लाख छुपाओ सीने में अहसास हमारी चाहत का
दिल जब भी तुम्हारा धड़का है आवाज़ यहाँ तक आयी है


होंठो ने तेरा  ज़िक्र न किया पर  मेरी आंखे तुझे  पैग़ाम.देती है
हम दुनियाँ' से तुझे  छुपाएँ  कैसे मेरी हर शायरी  तेरा ही नाम लेती है.



Post a Comment

0 Comments