display ads

(Mohabbat Shayari) Awesome Shayari in Hindi with Beautiful images


दोस्तों! इस पेज पर आपको खूबसूरत लव शायरी पढ़ने को मिलेंगे, शायरी बहुत ही अच्छी है आप एक बार पढ़ कर देखो आपको ज़रूर शायरी पसंद आएगा, अगर शायरी पसंद आए तो हमें अपने दिल की बात कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखें।


शिकायतें तुम बड़ी खूबी से,टाल देती हो
सवाल होठों के,और आंखों से,जवाब देती हो




बहुत ख़ूबसूरत चेहरा है तुम्हारा
हर एक शख्स दीवाना है तुम्हारा
सब कहते हैं चांद सा चेहरा है तुम्हारा
हम कहते हैं तुम ही चांद हो हमारा




बहुत ख्याल रखते हैं वो अपने दिल का
इधर नहीं लगता तो उधर लगा लेते हैं




हम तो खामोश रहेंगे ये वादा है मेरा तुमसे
अगर कह बैठी कुछ शायरियाँ तो खफा मत होना




छोड़ तो सकता हूँ,मगर छोड़ नहीं पाता उसे
वो शख्स मेरी बिगड़ी हुई आदत की तरह है




अच्छा लगता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ
जैसे कोई सुबह जुड़ी हो एक हसीन शाम के साथ




मकड़ी जैसे मत उलझो गम के ताने-बाने में
तितली जैसे रंग बिखेरो हँस कर इस ज़माने में




तु मिल गई तो अब खुदा भी नाराज है मुझसे
कहता है की अब तु कुछ मांगता ही नहीं मुझसे




तड़प रहीं हैं मेरी साँसें तुम्हें महसूस करने को
रुबरू होकर दीदार की रस्म पूरी करो तो कुछ बात बने



हम अन्धेरो मे भी साथ निभायेगे.. तेरा साया बनकर
बस तू मुहब्बत की शम्मा जलाए रखना

________________________________________
Text Shayari
छोड़ तो सकता हूँ,मगर छोड़ नहीं पाता उसे
वो शख्स मेरी बिगड़ी हुई आदत की तरह है

तड़प रहीं हैं मेरी साँसें तुम्हें महसूस करने को
रुबरू होकर दीदार की रस्म पूरी करो तो कुछ बात बने


मकड़ी जैसे मत उलझो गम के ताने-बाने में
तितली जैसे रंग बिखेरो हँस कर इस ज़माने में


अच्छा लगता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ
जैसे कोई सुबह जुड़ी हो एक हसीन शाम के साथ


शिकायतें तुम बड़ी खूबी से,टाल देती हो
सवाल होठों के,और आंखों से,जवाब देती हो

बहुत ख्याल रखते हैं वो अपने दिल का
इधर नहीं लगता तो उधर लगा लेते हैं

हम तो खामोश रहेंगे ये वादा है मेरा तुमसे
अगर कह बैठी कुछ शायरियाँ तो खफा मत होना

Bahut Khubsurat Chehra Hai Tumhara
Har ek Shkhsh Diwana Hai Tumhara
Sab kahte Hain Chand Sa Chehra Hai Tumhara
Hum Kahte Hain Tum Hi Chand Hamara

बहुत ख़ूबसूरत चेहरा है तुम्हारा
हर एक शख्स दीवाना है तुम्हारा
सब कहते हैं चांद सा चेहरा है तुम्हारा
हम कहते हैं तुम ही चांद हो हमारा


तु मिल गई तो अब खुदा भी नाराज है मुझसे
कहता है की अब तु कुछ मांगता ही नहीं मुझसे


हम अन्धेरो मे भी साथ निभायेगे.. तेरा साया बनकर
बस तू मुहब्बत की शम्मा जलाए रखना


हमारा नाम ही काफी है तुम्हारी महफ़िल में
हम खुद आ गए तो तुम भी दीवाने हो जाओगे



ज़िन्दगी गुज़रने लगी है अब तो,किश्तों पर
ये कुछ ग्राम का मोबाइल भारी पड़ गया है रिश्तों पर



खा कर ठोकर ज़माने की,फिर लौट आये मयखाने में
मुझे देख कर मेरे ग़म बोले, बड़ी देर लगा दी आने में


प्यार जो करता है उसका दिल भी अजीब होता है
यार जैसा भी हो खुदा से भी अजीज होता है





Post a Comment

2 Comments