display ads

Hindi Love Shayari


 कौन कहता है की सिर्फ मोहब्बत में ही दर्द होता है
कभी हद से ज्यादा नफरत भी बहुत तकलीफ देती
नफरतो कि इस दुनिया में चाह ढूँढता हूँ 
मै आज भी मोहोब्बत बेपनाह ढूँढता हूँ 
भटकता मुसाफिर हूँ एक ये मेरी कहानी है 
पहुंचा दे मंजिल तक वोह एक राह ढूँढता हूँ

उसने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया
कितने रिश्ते उसकी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ

मुझसे नफरत की अजब राह निकाली उसने
हँसता बसता दिल कर दिया खाली उसने
मेरे घर की रिवायत से वोह खूब था वाकिफ
जुदाई माँग ली बन के सवाली उसने

एक अदा आपकी दिल चुराने की
एक अदा आपकी दिल मे बस जाने की
एक चेहरा आपका चाँद जैसा
ओर एक ज़िद हमारी चाँद पाने की
मोहब्बत की शम्मा जला कर तो देखो
जरा दिल की दुनियाँ सजा कर तो देखो
तुम्हें हो ना जाऐ मोहब्बत तो कहना
जरा हमसे नजरें मिलाकर तो देखो

जवां दिल की तू हसरत हो गई है
मेरी  जां  खूबसूरत  हो  गई  है
इजाज़त हो तो  मैं इज़हार कर लूं
मुझे  तुझसे मुहब्बत  हो गई है

दुश्मन भी मेरे मुरीद हैं शायद,वक्त-बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं
मेरी गली से गुजरते हैं छुपा के खंजर,रू-ब-रू होने पर सलाम किया करते हैं


ना जाने कब तुम आकर हमारे दिल मे बसने लगे
तुम पहले दोस्त थे,फिर प्यार, फिर ना जाने कब ज़िंदगी बन गये

हमने उनसे कहा की वैलेंटाइन डे  है आज, 
क्या चाहिए? 
उन्होंने हमारा हाथ थाम लिया ओर बोले
ज़िंदगी भर ये दिन तुम्हारे साथ चाहिए

फरेब थी हँसी उनकी हम आशिकी समझ बैठे
मौत को ही हम अपनी ज़िंदगी समझ बैठे
वो वक़्त का मज़ाक था या हमारी बदनसीबी
जो उनकी दो बातों को मोहब्बत समझ बैठे

सकून मिलता है जब उनसे बात होती है 
हज़ार रातों में वो एक रात होती है
निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ 
मेरे लिए वो ही पल पूरी कायनात होती है


अगर इजाज़त हो इक कहानी सुना दूँ 
अपने दिल की अपनी ज़ुबानी सुना दूँ 
तेरी यादों से मोहब्बत लाज़वाब है 
कुछ यादें ताज़ा कुछ पुरानी सुना दूँ 
वो वादी वो झरना सारा खुला शहर 
पलकों में कैद रही निशानी सुना दूँ 
वजह जो भी हो तेरे छोड़ जाने की 
रिश्ता रहा मेरा रूहानी सुना दूँ 
मुझे छोड़कर वो खुद भी रोया होगा
उसकी आँख से बहता पानी सुना दूँ 
तेरा ही नाम होगा गगन पर 'ज्ञानी'
वो खिलता चेहरा नूरानी सुना दूँ 

Meri zindagi mujhe yeh bata
Mujhe bhool kr tujhe kya mila
Meri hasratoon ka hisab de
Dil toor kr tujhe kiya mila




अपनी आँखों के समुन्दर में उतर जाने दे तेरा मुजरिम हूँ मुझे डूब के मर जाने दे वादा है तुम याद किया करोगे मुझे मुझसे भी ज्यादा
 बस एक बार तुझ पर फना हो जाने दे





Meri zindagi mujhe yeh bata
Mujhe bhool kr tujhe kya mila
Meri hasratoon ka hisab de
Dil toor kr tujhe kiya mila





Post a Comment

2 Comments