display ads

तुम मेरे ख्याल के ख़्यालों मे हो...



तुम्हारा ख्याल मेरे मन से जाये भी तो जाये कैसे
कि तुम मेरे ख्याल के ख़्यालों मे भी शामिल हो


Tumhara khyal Mere Man Se jaye Bhi To jaye kaise
Ki tum Mere khyal ke khyalon Me Bhi Shamil Ho



हर वक्त मिलती रहती है अनजानी सी सजा.
मैं कैसे पूछूं तक़दीर से मेरा कसूर क्या है.

Har waqt Milti Rahti Hai Anjani si Sza
Main kaise Puchun Taqdir Se Mera kasoor kya Hai




Hm mohabat ke fool khilate rahe
Vo adavat hi mujhse nibhate rahe 
Jinke liye dil ko sajate rahe 
Vo gairo ki khatir hume rulate rahe




ऐ दिल♥
अब भी तड़प रहा है  तू उसकी याद में, 
उस बेवफा ने तेरे बाद कितने भुला दिए।

Aye Dil
Ab Bhi Tadap Raha Hai Tu Uski Yaad Me
Us Bewafa Ne Tere Baad Kitne Bhula diye


उसकी आँखों मे ही मेरे लिए फिक्र दिखती है
भला कैसे उसे मैं अकेला छोड़ दु

कुछ  इसलिए भी लोग अकसर ‎खफा रहते है मुझसे 
क्योंकि ‎मेरे लब वही कहते है जो मेरे ‎दिल में होता है

Kuch isliye Bhi log Aksar khfa rahte hai mujhe
Kyonki Mere Lab Wahi Kahte Hai jo Mere Dil Me Hota Hai


बस वही जान सकता है मेरी तन्हाई का आलम
जिसने जिन्दगी में किसी को पाने से पहले खोया है



Post a Comment

0 Comments